स्वागतम्‌...!


Click here for Myspace Layouts

साथी-संगम

Tuesday, November 16, 2010

क्षणिकाएँ

-1-
दूरियाँ 

मज़दूर,
मजबूर है...!

मालिक,
मग़रूर है...!

दौलत के नशे में चूर है!
इसीलिए
मज़दूर से दूर है!


-2-
नशा

दौलत में-
‘शान’ नहीं,
‘नशा’ है...!

‘नशा’ में-
‘नाश’ है...!

नशेड़ी,
एक चलायमान
लाश है...!


 -जितेन्द्र ‘जौहर’ 

139 comments:

  1. इतनी छोटी-छोटी पंक्तियों में आपने तो बहोत कुछ कह दिया.............
    मैं इसकी तारीफ कैसे करूँ...................मैं तो अभी तारीफ करने लायक हुआ ही नहीं हूँ.
    फिर भी ये कहूँगा ............बहोत सुंदर

    ReplyDelete
  2. जीतेन्द्र जी...
    सूक्ष्म विश्लेषण को सटीक सूक्ष्मिकाओं में प्रस्तुत किया है आपने...दौलत होना बुरा नहीं.. उसका नशा होना बुरा है ..नाश है... और उस नशे में डूबा हुआ नशेड़ी ..चलती फिरती लाश है... संवेदनहीन..करुनाविहीन ..

    ReplyDelete
  3. अरे वाह जौहर भाई क्या खूब लिखा है....
    इससे कम शब्दों में कोई अपने भाव नहीं कह सकता..
    वाह...
    अपनी शर्म धोने अब कहाँ जायेंगे ??? ...

    ReplyDelete
  4. जौहर जी,

    रहीम दास जी के दोहे याद आ गए जो देखन में छोटे लगे घाव करे गंभीर जैसे होते है. गहरे भाव इन क्षणिकाओं को बड़ा बना रहे है.

    ReplyDelete
  5. जौहर साहब! ये सिर्फ शब्दों का जौहर नहीं, शब्दों के साथ साथ ईमनदार भावनाओं और सूक्ष्म अनुभूतियों का जौहर भी है.. ईश्वर यह जौहर बनाए रखे!!

    ReplyDelete
  6. जौहर साहब शब्दों से खेलना कोई आपसे सीखे...भाई वाह...छोटे छोटे शब्दों से जादू जगा दिया है आपने...विलक्षण लेखन है आपका...बधाई.

    नीरज

    ReplyDelete
  7. आप चाहे इन्हें सूक्ष्मिकाएं कहें मगर इनकी चोट तो सूक्ष्म नहीं है. इन्होंने गंभीर घाव किये हैं व्यवस्था पर और शायद समाज पर भी. पढ़ने में ये कम समय लेती हैं परन्तु पढ़ने के बाद मनन करने पर मजबूर करती हैं. न्यूनतम शब्दों में प्रभावशाली प्रस्तुति के लिए बहुत बहुत बधाई.

    ReplyDelete
  8. जितेंद्र भाई
    बहुत सुन्दर ब्लाग है। बहुत सारे सुन्दर widget भी आपने जोडे हैं। रचनाएं तो सुन्दर हैं ही।
    हो सके तो जौहरवाणी के नीचे से अपनी तस्वीर की जगह थोड़ा बदल दीजीए।
    इस सुन्दर ब्लाग और सुन्दर रचनाओं के लिए बधाई।

    सादर
    अनमोल
    aazaadnazm.blogspot.com

    ReplyDelete
  9. खूबसूरत रचना !

    ReplyDelete
  10. जौहर जी , आपका ब्लॉग आपके जौहर से भरा पड़ा है . आपकी रचनाएँ एक अलग सी , .प्रभाव डालती हुई , मन को छूती हुई सी है .... अच्छा लग रहा है आपको पढ़ना . मेरी शुभकामनाएं कुबूल करें ..

    ReplyDelete
  11. छोटे छोटे शब्दों से जादू जगा दिया है आपने..

    ReplyDelete
  12. शब्दों से खेलने का आपका जौहर...ओह !!!!

    लाजवाब !!!

    संक्षिप्त शब्दों में गहरी सीख और चेतावनी दे दी आपने...

    अति सार्थक व प्रभावशाली अभिव्यक्ति !!!

    ReplyDelete
  13. ''nashedi ek jinda laash hai '' shandar prastuti !

    ReplyDelete
  14. JOHAAR VANI main aakr achcha laga,
    Majdur ki majburi or malik ki magruri ko mahaj chand shabdon main byan kr gaye aap,jo ki prashansniy hai ...........
    abhaar.

    ReplyDelete
  15. बहुत खूब जोहर भाई .. क्षणिकाएं छोटी जरूर हैं मगर बहुत लम्बी बात कह गयी हैं ... बहुत गहरी बात लिख गयीं हैं ... ....

    ReplyDelete
  16. बहुत गहन बात ...शब्दों का चमत्कार

    ReplyDelete
  17. अनूभूति- अभिव्यक्ति व शब्द-टंकार का अनूठा संगम !
    सुधा भार्गव
    subharga@gmail.com
    sudhashilp.blogspot.com
    baalshilp.blogspot.com

    ReplyDelete
  18. AAPNE GAGAR MEIN SAGAR BHAR DIYA HAI . BADHAEE.

    ReplyDelete
  19. ... bahut sundar ... prasanshaneey !!!

    ReplyDelete
  20. पहले तो मेरे "विचार" पर आपकी टिप्पणी फिर आपकी ये सूक्ष्मिकाएं पढकर खेरा जी की ये पंक्तियां याद आ गईं "Winners don't do different things, they do the things differently."
    अर्थात्‌ जीतने वाला, यानी जीतेन्द्र, अलग काम नहीं करते, वे हर काम अलग ढंग से कर, यानी जौहर, दिखाते हैं।

    ReplyDelete
  21. दौलत में
    शान नहीं
    नशा है
    नशा में नाश है

    वाह , जौहर जी, शब्दों के साथ अच्छा खेला है आपने...इस खेल में एक धारदार कविता उभर कर सामने आई है।...बधाई।

    ReplyDelete
  22. छोटी रचना है लेकिन सीधे दिल में उतरने वाली है |

    ReplyDelete
  23. कमाल कर दिया भाई आपके शब्दों ने .....सुंदर अभिव्यक्ति
    चलते -चलते पर आपका स्वागत है ....

    ReplyDelete
  24. गहन भावों की सुंदर अभिव्‍यक्ति मन को छू जाती है ।
    दीप्ति परमार

    ReplyDelete
  25. शान में नशा
    नशा में नाश
    अच्छा व्यतिक्रम...

    यानी
    बात में ताब है
    आब ही आब है

    ReplyDelete
  26. आप सभी का आभार कि आपने अपने अमूल्य पल इस ब्लॉग को दिए...और प्रतिक्रिया भी...सद्‌भाव बनाए रखें...तथास्तु!

    @ रविकांत अनमोल जी...मैं उसे परिवर्तित करने का प्रयास कर चुका हूँ, लेकिन सम्यक्‌ जानकारी के अभाव में कर नहीं पाया...पुनः कोशिश करूँगा!

    @ डॉ. ललित पण्ड्या जी...आपका फोन-संवाद भी सुखद लगा!

    ReplyDelete
  27. आदर्णीय जितेन्द्र जी , सबसे पहले आपका आभार.
    आपने वाकई गागर में सागर भर दिया है.शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  28. कम शब्दों में बहुत ही सुन्दर रचना. शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  29. कुछ शब्दों में गहन अभिव्यक्ति ..कमाल है !आभार

    ReplyDelete
  30. मेरे गीत पर आपके दिए कमेन्ट के बारे में दिया गया जवाब यहाँ भी दे रहा हूँ !

    @ जितेन्द्र जौहर,

    आज की बहतरीन प्रतिक्रिया दी है आपने ...निस्संदेह मुझे आपने प्रोत्साहित किया है ! आपका आभार !

    मैं गीत शिल्प का ज्ञाता बिलकुल नहीं हूँ और न ही तकनीक की कोई समझ है, मगर गीत सिर्फ उन क्षणों में ही लिख पाया हूँ जब अपने आप कलम उठ गयी ! चाहते हुए शायद ही कभी गीत लिखा हो !

    हिंदी ब्लॉग जगत में गीत के जानकार, कभी एक दूसरे को प्रोत्साहित नहीं करते ! अगर प्रोत्साहन देते हैं तो सिर्फ अपनी प्रशंसा के बदले में, वाह वाह करते हैं, वह भी चुनिन्दा ब्लाग्स पर जो, उनके अपने मित्रों के हैं !

    प्रोत्साहन के अभाव में बेहद अच्छे कवि और नवोदित लेखक दम तोड़ते नज़र आते हैं !!

    मैंने कभी अपनी रचना आज तक किसी पत्रिका में नहीं भेजी सो छपने का सवाल ही पैदा नहीं होता !
    योगेन्द्र भाई मित्रों में से हैं बस इतना ही !

    आपका दुबारा आभार !

    ReplyDelete
  31. भाई सतीश सक्सेना जी,
    धन्यवाद...!
    मम्‌ प्रतिक्रिया-प्रसूत आपकी राय से अवगत होना अच्छा लगा! प्रसंगतः कहना चाहूँगा कि जिस ब्लॉग पर मुझे जैसी रचना नज़र आती है, आदतन मैं वैसा ही नज़रिया वहाँ प्रकट कर देता हूँ...बस्स्स्स्स्स!

    शायद आप सहमत होंगे कि कोई श्रेष्ठ रचना किसी समीक्षक/विशेषज्ञ की कृपा-दृष्टि की मुखापेक्षी नहीं होती है...वह अपना स्थान स्वयं बना लेती है...आप पत्रिकाओं की ओर भी रुख करें...आपकी रचनाओं को मान मिलेगा! लीजिए... प्रथम प्रस्ताव प्रस्तुत है आपके लिए:

    इस विज्ञप्ति को पढ़कर रचनाएँ भेजें/भिजवाएँ-
    ..................................

    ‘मुक्तक विशेषांक’ हेतु रचनाएँ आमंत्रित-
    देश की चर्चित साहित्यिक एवं सांस्कृतिक त्रैमासिक पत्रिका ‘सरस्वती सुमन’ का आगामी एक अंक ‘मुक्‍तक विशेषांक’ होगा जिसके अतिथि संपादक होंगे सुपरिचित कवि जितेन्द्र ‘जौहर’। उक्‍त विशेषांक हेतु आपके विविधवर्णी (सामाजिक, राजनीतिक, आध्यात्मिक, धार्मिक, शैक्षिक, देशभक्ति, पर्व-त्योहार, पर्यावरण, श्रृंगार, हास्य-व्यंग्य, आदि अन्यानेक विषयों/ भावों) पर केन्द्रित मुक्‍तक/रुबाई/कत्अ एवं तद्‌विषयक सारगर्भित एवं तथ्यपूर्ण आलेख सादर आमंत्रित हैं।

    इस संग्रह का हिस्सा बनने के लिए न्यूनतम 10-12 और अधिकतम 20-22 मुक्‍तक भेजे जा सकते हैं।

    लेखकों-कवियों के साथ ही, सुधी-शोधी पाठकगण भी ज्ञात / अज्ञात / सुज्ञात लेखकों के चर्चित अथवा भूले-बिसरे मुक्‍तक/रुबाइयात/कत्‌आत भेजकर ‘सरस्वती सुमन’ के इस दस्तावेजी ‘विशेषांक’ में सहभागी बन सकते हैं। प्रेषक का नाम ‘प्रस्तुतकर्ता’ के रूप में प्रकाशित किया जाएगा। प्रेषक अपना पूरा नाम व पता (फोन नं. सहित) अवश्य लिखें।

    इस विशेषांक में एक विशेष स्तम्भ ‘अनिवासी भारतीयों के मुक्तक’ (यदि उसके लिए स्तरीय सामग्री यथासमय मिल सकी) भी प्रकाशित करने की योजना है।

    भावी शोधार्थियों की सुविधा के लिए मुक्तक संग्रहों की संक्षिप्त समीक्षा सहित संदर्भ-सूची तैयार करने का कार्य भी प्रगति पर है।इसमें शामिल होने के लिए कविगण अपने प्रकाशित मुक्तक/रुबाई के संग्रह की प्रति प्रेषित करें! प्रति के साथ समीक्षा भी भेजी जा सकती है।

    प्रेषित सामग्री के साथ फोटो एवं परिचय भी संलग्न करें। समस्त सामग्री केवल डाक या कुरियर द्वारा (ई-मेल से नहीं) निम्न पते पर अति शीघ्र भेजें-

    जितेन्द्र ‘जौहर’
    (अतिथि संपादक ‘सरस्वती सुमन’)
    IR-13/6, रेणुसागर,
    सोनभद्र (उ.प्र.) 231218.
    मोबा.# : +91 9450320472
    ईमेल का पता : jjauharpoet@gmail.com
    यहाँ भी मौजूद : jitendrajauhar.blogspot.com

    ReplyDelete
  32. नशा और शान के बीच गहरा संबंध है।

    ReplyDelete
  33. जितेन्द्र जी , बहुत सुन्दर है आपकी क्षणिकाएं!
    मेरे ब्लॉग पर आने के लिए आपका आभार !

    ReplyDelete
  34. बहुत ही अच्छी क्षणिकाएं हैं...

    ReplyDelete
  35. गागर में सागर - बेमिशाल

    ReplyDelete
  36. जीतेन्द्र जी..ओह क्या खूबसूरत पंक्तियाँ निकाली है आपने...वाह :)

    ReplyDelete
  37. जितेन्द्र जी ,
    आपकी क्षणिकाएं बड़ी मारक हैं , सीधे दिल पर चोट करती हैं !
    ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    ReplyDelete
  38. आप सभी की आत्मीयता के लिए ...हार्दिक धन्यवाद!

    ReplyDelete
  39. समीक्षक महोदय,
    आपकी दोनों रचनाएं पढ़ी।
    एक रचना मजदूर और मालिक को लेकर लिखी गई है। इस तरह की क्षणिकाएं काफी पहले अच्छी लगती थी। दूसरी रचना नशे को लेकर लिखी गई है। इस रचना को पढ़कर गायत्री परिवार का स्लोगन याद आ रहा है-नशा नाश की जड़ है भाई, फल इसका अति दुखदायी।
    दोनों ही रचना काफी कमजोर है।
    आप समीक्षक है। आप अपने सुझाव को काफी कीमती भी मानते हैं। उम्मीद है दूसरे को सुझाव पर भी अमल करते हुए कोई धारधार रचना लिखेंगे जिसे सर्वकालिक रचना माना जाए।
    आशा है आपका स्वास्थ्य ठीक होगा।

    ReplyDelete
  40. Jitendra,
    __I truly thank you for your visits to my blog and your generous comments there, and too your echo left at Bicando's blog. I'm glad you have enjoyed the thoughts... that I have scribbled into haiku, and you are always welcome!
    __Soo-kri-ah! _m

    ReplyDelete
  41. @ प्रिय श्री राजकुमार सोनी जी,
    नमस्कारम्‌!
    आप मेरे ब्लॉग (यानी...मेरे घर) आये मेहमान हैं। भले ही ‘आखर कलश’ की निम्नांकित लिंक-

    http://aakharkalash.blogspot.com/2010/11/blog-post_29.html#comments

    -पर घटित घटना से प्रसूत आपकी स्वाभविक भड़ास/खुन्नस ने आपके कराम्बुजों में चन्द्रहास खड्‍ग-सी थमा दी है...तथापि आप हैं तो मेरे मेहमान ही! अतः भारतीय संस्कृति में ‘अतिथि देवो भव’ की सुन्दर व आदर्श परम्परा में समग्र निष्ठा दर्शाते हुए... मैं आपका हार्दिक स्वागत करता हूँ!

    अब रही बात आपकी उपर्युक्त टिप्पणी की, तो मैं नहीं समझता कि उस बिन्दु पर मुझे बहुत कुछ कहने की ज़रूरत है; वैसे भी शब्दापव्यियता मेरा शग़ल नहीं। (स्वयं इन संदर्भित क्षणिकाओं में मैंने न्यूनतम शब्दों में अपनी बात कहने की कोशिश की है।) शब्द की अपनी एक अर्थवत्ता होती है... एक गरिमा होती है! कब-कहाँ-कैसे-क्यों और कितने शब्द ख़र्च करने हैं...भली-भाँति समझता हूँ।

    कोई भी रचना सिर्फ़ तब तक ही रचनाकार की होती है, जब तक वह पाठकों/श्रोताओं तक नहीं पहुँच जाती! पाठकों तक पहुँचते ही वह समाज की सम्पत्ति बन जाती है। अब हर पाठक उसको अपनी-अपनी भावयित्री-धारयित्री-कारयित्री प्रतिभा के अनुकूल उसका अर्थ-अनर्थ/ स्मरण-विस्मरण/ उपयोग-सदुपयोग-दुरुपयोग आदि कुछ भी कर सकता है। एक पाठक के रूप में आपका भी पूर्ण अधिकार सुरक्षित है...और होना भी चाहिए।

    लेकिन...सिर्फ़ दो प्रमुख बातें आपकी इस टिप्पणी पर सवालिया निशान लगा रही हैं-

    १. यह कि ‘क्रोध’ के ‘क्रोड़’ से उद्‍भूत आपकी यह टिप्पणी स्वस्थ मन की ‘संतान’ नहीं है! वस्तुतः ‘आखर कलश’ वाली एक ‘तिलमिलाती हुई खुन्नस’ ने स्वभावतः अपना निकास-मार्ग तलाशा है।

    २. यह कि आप इस टिप्पणी के माध्यम से ब्लॉगिंग-परिक्षेत्र में एक अस्वस्थ एवं सर्वथा अनुचित परम्परा के वाहक बन गये हैं।
    ........................

    ‘जौहरवाणी’ के विद्वान पाठकगण ‘आखर कलश’ पर प्रस्तुत श्री गोविन्द गुलशन जी की ग़ज़लों वाली उपरांकित लिंक पर स्वयं क्लिक करके असलियत से वाक़िफ़ हो जाएँगे।

    ReplyDelete
  42. Dear Magyar,
    Thanks from the core of my heart for your kind & prompt reciprocation... as well as your word of 'Welcome' for my further visit to your fantastic blog.

    It goes without saying that I shall keep visiting you from time to time as you have got a lot of literary stuff of my flavour. Your picturesque creation is,indeed, full of modern symbols & imagery

    ReplyDelete
  43. Dear Magyar,
    Oh...! I am sorry. The last part of your comment (i.e. " Soo-kri-ah") inadvertently went un-noticed.

    Perhaps you wanted to say 'Shukriya' (the popular Urdu word for 'Thanks') to me. That's a beautiful way of honouring someone by using a word from one of his native languages.

    Here I would love to tell you that Hindi is my lovely mother tongue which has the word 'Dhanyavaad' synonymous with English 'Thanks / Thank you'.

    Thanks & regards,

    Jitendra Jauhar
    < jjauharpoet@gmail.com >

    ReplyDelete
  44. ऊपर श्री राजकुमार सोनी को दिए गये जवाब में प्रयुक्त ‘शब्दापव्यियता’ की जगह ‘शब्दापव्ययिता’ पढ़ा जाए...धन्यवाद!

    ReplyDelete
  45. मुझे खुशी है कि आपकी टिप्पणी “जो तो को काँटा बुवे ताहि बोई तू फूल” की भावना के अनुरूप ही है. एक ब्लॉग पर हुए किसी प्रकार के विवाद को अन्यत्र नहीं घसीटना चाहिए. मुझे आशा है कि इस विषय पर सद्भावना से गहन चिंतन करने की आवश्यकता है.

    ReplyDelete
  46. रामवृक्ष बेनीपुरी,हजारी प्रसाद द्विवेदी, नामवर सिंह, मैनेजर पांडेय और परमानंद श्रीवास्तव जी परम्परा को आगे बढ़ाने वाले समीक्षक महोदय
    आपकी तारीफ में संबोधन थोड़ा लंबा हो गया है और इस चक्कर में मैं अल्प विराम और पूर्ण विराम का ध्यान नहीं रख पाया
    खैर... मैं नहीं भी रखूंगा तो क्या हुआ। अभी एक भाषा वैज्ञानिक आएंगे और भाषा सुधराने का सुझाव देंगे। हम उनसे कुछ सीख लेंगे।
    क्या है समीक्षक महोदय,
    जब नामवर सिंह दूसरों की रचनाओं पर मीन-मेख निकालते हैं तो उन्हें बड़ा मजा आता है। किसी ने यदि उनकी रचना को कमजोर बता दिया तो बुरा लग जाता है। यह सही है कि मेरा आपसे आखर कलश पर विवाद हुआ लेकिन उसी विवाद के बाद तो मैंने आपको पढ़ना और जानना चालू किया।
    इधर जैसे-जैसे आपको तलाशता जा रहा हूं आपकी पोल खुलती जा रही है।
    सबसे बड़ी पोल तो यह है बंधुवर कि आपको तोपचंदी का भ्रम हो गया है। इसी भ्रम ने आपको आत्ममुग्ध बना डाला है।
    ज्यादा आत्ममुग्धता अच्छी नहीं होती बंधुवर... आत्ममुग्धता की रस्सी से मैंने कई लोगों को फांसी लगाते हुए देखा है।
    हिन्दी के कठिन शब्दों को अपने जेब में ठूंसकर चलने से यह जरूरी नहीं है कि कोई अच्छा इंसान भी हो जाता होगा।
    मेरे हिसाब से आपको पहले बेहतर इंसान बनने की जरूरत है।
    एक तो आप मुझे मेहमान कहते हैं और फिर दूसरी ओर उस मेहमान की नाराजगी को क्रोध का कोड़ वगैरह जैसे शब्दों से नवाजते हैं। क्या यह मेहमान की खातिर है। मैं तो यह स्वीकार ही करता हूं कि आखर कलश पर आपसे मेरा जो विवाद हुआ है उसके बाद मैं आपको खोज रहा हूं। मैं तो अब हर उस जगह पहुंचना चाहूंगा जहां-जहां आप लिखते-पढ़ते हैं।
    भैय्ये आपने अपनी टिप्पणी में अपनी रचना को पाठक के हवाले वाली बात भी लिखी है। भाईसाहब जब रचना पाठक की हो गई तो फिर उसे पलकों पर बिठाने पर और उतारने का अधिकार भी तो पाठक को दो। गुलशनजी की रचनाओं पर तो मैंने यहीं किया था.. आपको ज्ञानचंद वाली टिप्पणी बुरी लग गई। अरे भाई साहब किसी समझदार आदमी को मूर्ख कहने उसे बुरा मानते हुए देखा था लेकिन यहां तो मैं पहली बार किसी समझदार आदमी को ज्ञानचंद कहने पर बुरा मानते हुए देख रहा हूं।
    आप समझदार आदमी है। जरा समझदारी से काम लेते हुए यह जरूर विचार करें कि आपने जीवन में कितना लिखा-पढ़ा है। आपके कितने लिखे हुए पर आंदोलन हुआ है। क्या आपका लिखा हुआ बगैर कोई हलचल मचाए यूं ही चुपचाप चला जा रहा है।
    आशा है आप ठीक होंगे।
    आपसे तो अब बात होती रहेंगी।

    ReplyDelete
  47. सोनी जी को इतने अच्छे लेखन के लिए दाद देनी चाहिए. हम आज इनके कृतज्ञ हैं कि इन्होंने अपनी मधुर वाणी जानने का अवसर जो दिया है. आप स्वयं इतने बड़े विद्वान हैं कि कोई आपकी भाषा सुधारने की सोच ही नहीं सकता. आपकी तारीफ़ करने के लिए मेरे पास शब्द नहीं हैं. आपने हमें इतना आत्म-विभोर कर दिया है कि कोई भी “आत्म-मुग्ध हो कर आपके कथनानुसार फाँसी ले सकता है.” भगवान करे आपका यह विश्वास बना रहे. रही बात पोल खुलने कि तो मैं यह स्पष्ट करना चाहता हूँ कि जो व्यक्ति अपनी टांग से कपडा उठाता है वह स्वयं ही नंगा हो जाता है.

    ReplyDelete
  48. श्री राजकुमार सोनी जी,
    नमस्कारम्‌!
    पुनः स्वागत है आपका...हृदय के अन्तर्तम गह्‍वरों से! आते रहिएगा...प्लीज़! लेकिन...हे अतिथि... एक अनुरोध कर रहा हूँ कि आप तनिक अपनी ग़ुस्सा परे धकियाकर आएँ...तो आपको टिप्पणी लिखते हुए मज़ा आएगा...और मुझे पढ़ते हुए...है कि नहीं?

    ReplyDelete
  49. जौहर साहब,
    लोग ट्रकों के पीछे लिखी हुई कविताओं पर शायद कम ही ध्यान देते हैं, लेकिन मेरा मानना है कि यह कविताएं आम आदमी के ज्यादा करीब होती है। अक्सर ट्रकों के पीछे लिखा मिलता है-चमचों से सावधान।
    मैं जब भी कोई टिप्पणी करता हूं एक भाषा का वैज्ञानिक अपना ज्ञान बघारने चला आता है।
    चमचों से सावधान जौहर साहब।

    ReplyDelete
  50. बढिय़ा पोस्ट। दूरियां और नशा, दोनों उम्दा हैं।

    ReplyDelete
  51. गागर में सागर सी पंक्तियाँ. दोनों ही रचनाएँ अपने आपमें परिपक्व और मुकम्मल हैं. कही से कोई हल्कापन या कमी कम से कम मुझे तो नहीं लगी. शब्दों के साथ मनचाहे अंदाज़ में खेलना तो कोई जौहर साहब से सीखे. साथ ही रचनाएँ समसामयिक और सत्यान्वेषण करती प्रतीत होती है. इसका उदाहारह है दूसरी रचना. सीखने वालों के लिए इससे बेहतर मंच कोई और हो ही नहीं सकता.ये बात और है कि कोई यहाँ आकर भी कुछ ना सीखे, ये उसकी मति की कमी होगी. श्री जौहर साहब की रचनाओं में हल्कापन ढूँढने से भारी काम कोई हो ही नहीं सकता, उसके पश्चात् भी हल्कापन ढूँढने वाले को निराश ही होना पड़ेगा. आपकी इन रचनाओं की मैं दिल से भूरी-भूरी प्रशंसा करता हूँ, हालाँकि मेरी प्रशंसा की मोहताज़ नहीं ये रचनाएँ. फिर भी रचनाओं के सम्मान में मेरे शब्द रुपी पुष्प अर्पित कर रहा हूँ.
    एक बात और कि बात या समीक्षा या आलोचना अगर रचना की और वो भी तार्किक की जाए तो सही वर्ना वही टिपण्णी निरर्थक है और स्वयं को ही हल्का कहलवाती है. जो कि साहित्यिक परिवेश में नहीं रखी जा सकती. ये एक शाश्वत सत्य है. मैं एक बार पुनः श्री जौहर साहब को इन रचनाओं पर बधाई प्रेषित करता हूँ. साधुवाद ! नमन !

    ReplyDelete
  52. जो लोग ट्रकों के पीछे लिखा हुआ पढ़ कर अपना मनोरंजन करते हैं उनके विषय में तो मैं अधिक कुछ नहीं कह पाऊंगा क्योंकि उनकी नज़र में यही सर्वश्रेष्ठ साहित्य दर्शन है भले ही यह सड़क छाप क्यों न हो.

    ReplyDelete
  53. जौहर जी,
    पहली मर्तबा आया हूँ. आता रहूँगा.
    आशीष
    ---
    नौकरी इज़ नौकरी!

    ReplyDelete
  54. यहाँ आना सौभाग्य है मेरा..
    .बहुत सुंदर मन-मोहक अभिव्यक्तियाँ पढ़ने को मिलीं...


    आभार और बधाई आपको..

    गीता .

    ReplyDelete
  55. तेरे विशाल नभ में सुख सूर्य का उदय हो

    ReplyDelete
  56. हे गदाधारी भीम
    क्या आप जीवन भर चमचे ही बना रहना चाहेंगे। मेरे ख्याल से आपको फिल्मी लफंडरबाजी छोड़कर अपनी निजी पहचान बनाने के लिए कुछ करना चाहिए। समय बड़ा विकट है।

    ReplyDelete
  57. हे गदाधारी भीम
    आजकल बजाज स्कूटर भी झुकाने या लात मारने के बाद चालू होता है।
    तो श्रीमानजी ऐसे बुरे वक्त में बजाज स्कूटर का स्टेपनी बनने से क्या फायदा।

    ReplyDelete
  58. शात गद्दाधारी भीम शांत

    ReplyDelete
  59. श्रीमानजी
    जिसे आप सड़क का साहित्य कहते हैं क्या उसमें बशीर साहब की रचनाएं भी शामिल होती है क्या ...
    मैंने तो बशीर साहब की कई रचनाओं को ट्रकों के पीछे लिखा हुआ देखा है।

    ReplyDelete
  60. महोदय
    हर आदमी के मनोरंजन का अपना तरीका होता है।
    मुझे तो आपको क्रोधित देखकर भी आनन्द आ रहा है।
    आप लगातार मेरा मनोरंजन ही कर रहे हैं।

    ReplyDelete
  61. हां... आप ही नहीं गौहर साहब का जौहर देखकर भी मैं मजे ही ले रहा हूं।

    ReplyDelete
  62. मुझे लगता है कि अब आप लोग अपनी टिप्पणी बाक्स बंद कर देंगे।
    यदि आप ऐसा करेंगे तो मैं आपको बुजदिल समझूंगा।
    अभी चलने दो भाई।

    ReplyDelete
  63. अरे हां...
    जौहर साहब ने ब्लाग पर निरन्तर आते रहने का न्यौता भी दिया है।
    अब किसी ने न्यौता दिया है तो आना ही पड़ेगा न छोटू

    ReplyDelete
  64. हिन्दी में एक मुहावरा है दाल-भात में मूसलचंद।
    आप तय कर ले आप क्या है।
    दाल है, भात है या मूसल है या चंद है।
    मेरे ख्याल से आपको भी सुझाव देने में मजा आता है, इसलिए आपको भी ज्ञानचंद टू कहा जा सकता है।

    ReplyDelete
  65. आज के लिए इतना ही काफी है।
    अभी तो मैं आपकी सेवा के लिए आता रहूंगा यदि आप लोगों ने टिप्पणियों के दरवाजे पर ताला नहीं लगाया तो।
    एक बार फिर आपकी जय हो।

    ReplyDelete
  66. अरे हां..
    जाते-जाते एक बात तो मैं पूछना भूल ही गया
    क्या आप सड़क पर चलने वालों से नफरत करते है
    क्या लोगों को सड़क पर चलने का हक नहीं है।
    क्या आप हवा में ही उड़ते है।
    आशा है कुछ प्रकाश डालेंगे।

    ReplyDelete
  67. जीतेन्द्र जी ,
    आपकी सूक्ष्मिकाओं पर टिप्पणियों का पर्वत बनते देख अपनी एक रचना याद आ गयी... यहाँ प्रस्तुत कर रही हूँ..:) आनंद लीजिए उसका ...

    अहम् तुष्ट करने को मानव
    क्या क्या ढोंग रचाता है
    धोखा देता 'स्वयं' को पहले
    फिर जग को भरमाता है

    झूठे चेहरे लगा लगा कर
    बिना बात मुस्काता है
    हीन भावना से बचने को
    उपद्रव ढेर मचाता है

    ढूंढ के कमियाँ दूजों में वह
    गुण अपने गिनवाता है
    मूर्ख बड़ा ये भी ना जाने
    सत्य कहाँ छुप पाता है

    चाह रहे ये , पाए प्रशंसा
    खेल यूँ खूब रचाता है
    दिखा के नीचा औरों को पर
    खुद नीचा बन जाता है

    ठेस जरा सी सह नहीं पाए
    अहम् तुरंत उकसाता है
    राई बराबर बात हो कोई
    पर्वत वो बनवाता है

    'स्वयं' जागृत हो जाता जब
    'अहम्' टूटता जाता है
    कोमल नम्र उदार "स्वयं' से
    'अहम्' हारता जाता है.......

    सादर
    मुदिता

    ReplyDelete
  68. वह आदमी कायर होता है जो अपनी लड़ाई में बच्चों और महिलाओं को शामिल करता है।
    कल ही किसी अखबार के एक कालम में यह बात छपी थी।
    कालम का शीर्षक था-दीवारों पर लिखा है।
    बात अच्छी लगी सोचा आप तक पहुंचा दूं।

    ReplyDelete
  69. “अहम तुष्ट करने को मानव क्या क्या ढोंग रचाता है
    धोखा देता स्वयं को पहले फिर जग को भरमाता है.”
    बड़ी सुन्दर और सामयिक रचना लगाई है आपने. इस सुन्दर अभिव्यक्ति के लिए बहुत बहुत साधुवाद.

    ReplyDelete
  70. गागर में सागर भर दिया आपने. खूबसूरत

    ReplyDelete
  71. जिसे चम्मचगिरी की आदत लग जाती है उसे लाख समझाओ कि भैय्या इससे तु्म्हारी निजी पहचान को फर्क पड़ता है लेकिन वह नहीं मानता।
    हे... भाषा के महान इंजीनियर.. बीच में टपकने की प्रवृति छोड़ दो।
    और यदि पेट दर्द की शिकायत है तो किसी अच्छे चिकित्सक से सलाह लेकर दवाई खाओ भाई।

    ReplyDelete
  72. aap kee rchna ka prthm pthn kiya hai
    sundr abhivykti hai vishy ka chyn bhi sadhuvad ke yogy hai meri geetika me bhi ye vishy hain
    dekh dault kee aise dikhavt n kr
    aap ne pdha bhi hai
    shilp me bdi khoobsoorti hai
    ise nirntr bnaye rkhen
    bdhai

    ReplyDelete
  73. जीतेन्द्र जी...


    बहुत पहले एक रचना लिखी थी..आपके ब्लॉग पर विनम्रता को कायरता का जामा पहनाया जाते देख याद आ गयी ...कुछ लोग अभी भी उसी सदियों पुरानी पुरुष मानसिकता में जीते हैं जहाँ महिलाओं को अपने विचार व्यक्त करने की स्वतंत्रता नहीं थी ...लेकिन मैं स्वयं को स्वतंत्र मानती हूँ ऐसे किसी भी पूर्वाग्रह से...और जो मेरे विचार हैं.. उनको यहाँ आपके साथ बाँट कर प्रसन्नता हो रही है... ईश्वर आपकी यह कायरता ( ??? )बनाये रखे...

    अंहकार मद चढ़ता जिसपर
    दिखता उसे उजास न कोई
    मैं ही मैं का बजता डंका
    ध्वनि हृदय की उसमें खोयी

    होते उत्पन्न कलुष विकार जब
    रावण सम ज्ञानी मिट जाते
    स्व-आदर के भ्रम में प्राणी
    अहम् को अविरल पोषित पाते

    ज्ञान भला है उस ज्ञानी का
    झुकना करता जिसे न विचलित
    सजग ,सहज और स्व-अनुभव ही
    करता दिशा दिशा आलोकित........

    ReplyDelete
  74. चंद शब्दों में बड़ी गहरी बातें कही हैं..जैसे गागर में सागर हो...

    ReplyDelete
  75. “ज्ञान भला है उस ज्ञानी का झुकना जिसे न करता विचलित” आपने सही कहा है मुदिता जी! जिस बेरी पर फल लगे हों वह झुक जाती है और जहां कोई फल नहीं लगता वह बेरी अकड़ कर सीधी खड़ी रहती है. मुझे प्रसन्नता और गर्व है कि आप भारत जैसे देश की बेटी हैं. आपने तो अपने ब्लॉग से इतर भी सुन्दर अभिव्यक्तियों की झड़ी सी लगा दी है. बहुत बहुत साधुवाद.

    ReplyDelete
  76. आदरणीय जीतेन्द्र जी
    नमस्कार !
    बहुत सुन्दर है आपकी क्षणिकाएं!

    ReplyDelete
  77. पहली बार पढ़ रहा हूँ आपको और भविष्य में भी पढना चाहूँगा सो आपका फालोवर बन रहा हूँ ! शुभकामनायें

    ReplyDelete
  78. कहाँ खो गए हो जौहर साहेब! कुछ तो कहें आप भी.

    ReplyDelete
  79. @ अश्वनी कुमार रॉय जी
    हाज़िर हूँ...हुज़ूर! कहीं भी खोया नहीं हूँ! क्या कहूँ...क्या न कहूँ..?!

    आपने क्या-क्या न सहा...! भगवान ने ‍किस मिट्‌टी से बनाया है आपको...? आपकी सहनशीलता के लिए...साधुवाद!

    ReplyDelete
  80. जिसे ढालना सहज हो वह मिट्टी काम की होय
    जो मिट्टी ढल न सके सो जग में न पूछे कोय
    -एक स्वरचित दोहा

    ReplyDelete
  81. @ ललित शर्मा जी...हार्दिक स्वागत! अपने ब्लॉग का लिंक दीजिएगा प्लीज़!
    @ शिवम्‌ मिश्रा जी...हार्दिक स्वागत...एकदम चुपके से आये आप...!

    ReplyDelete
  82. @ अश्विनी जी ...

    आपका बहुत बहुत शुक्रिया आपने मेरे विचारों को सराहा और समर्थन दिया....आपका स्वरचित दोहा भी कमाल का है.. एक दम सटीक.....बधाई

    ReplyDelete
  83. इधर दो तीन दिन नेट की समस्या थी सो आप लोगों की सेवा में बंदा हाजिर नहीं हो पाया। आशा है अन्यथा नहीं लेंगे।
    इस बीच मुझे पता चला कि आप लोग मुझे पानी पी-पीकर याद करते रहे। टिप्पणियां तो यहीं बता रही है। किसी ने पंचतंत्र की कहानी खोल ली तो किसी ने स्त्री विमर्श का मुद्दा उठाया। हां... एक महोदय ने तो तंग आकर गोस्वामी तुलसीदासजी को भी पीछे छोड़ दिया। बंधुवर दोहा और सरोठा लिखने लगे।
    हे ईश्वर इन्हें माफ कर देना.. ये नहीं जानते कि अन्जाने में क्या कर रहे हैं।
    अरे हां चमचेजी याद आया। आपने बीच में टपकना नहीं छोड़ा।
    खैर मैं तो भूल ही गया था कि कोई पोंगली और पूंछ का मुहावरा शब्दकोशों में कैद है। शायद किसी ने ठीक ही कहा है- लोगों को तो बदला जा सकता है लेकिन प्रवृति नहीं बदली जा सकती है।

    ReplyDelete
  84. देश की नई महादेवी वर्मा को मेरा सलाम।
    यकीन मानिए आपका दिल दुखाने का इरादा नहीं था मेरा। मैं स्त्री विरोधी नहीं हूं। दुख पहुंचा हो तो क्षमा चाहता हूं।
    महादेवी की संज्ञा मैंने आपको इसलिए दी कि क्योंकि आप अच्छा लिखती है।

    ReplyDelete
  85. सरोठा को सुधार लीजिएगा भाषा वैज्ञानिकजी,
    आखिर कुछ काम तो मुझे आपके लिए छोड़ना ही चाहिए

    ReplyDelete
  86. आप लोगों की आवाज थोड़ी कुंद पड़ती देखकर अच्छा नहीं लग रहा है।
    डिप्रेशन का कंबल ओढ़ना अच्छा नहीं माना जाता।

    ReplyDelete
  87. @ राजकुमार सोनी जी
    आपका बहुत-बहुत शुक्रिया ...आपने ‘महादेवी जी’ की संज्ञा देकर मेरा मान बढ़ाया ..आभारी हूँ.. किन्तु आपने मेरा लिखा पहले भी पढ़ा है ..इस लिंक पर आपकी टिप्पणी भी है-

    http://roohshine-lovenlight.blogspot.com/2010/09/blog-post_17.html

    तब आपको इस ज्ञान की प्राप्ति नहीं हुई थी कि मुझे ‘महादेवी जी’ की संज्ञा से नवाज़ा जाए ??? ....या यह भी आपका अपनी खिसियाहट छुपाने के लिए तंज़ करने का एक और तरीका है जो किसी पर भी किसी भी प्रकार का कोई असर छोड़ने में हमेशा नाकामयाब रहता है ..वैसे लोग मुझे अक्सर ‘झाँसी की रानी’ की संज्ञा देते हैं...भविष्य में शायद आपको भी इस ज्ञान की प्राप्ति हो जाए....यथासमय !!

    ...और जहाँ तक दुःख पहुँचाने की बात है... आप किंचित भी क्षोभ न करें... मुझे दुःख पहुँचा सके, अभी तक ऐसा कोई इस दुनिया में जन्मा ही नहीं, इसलिए क्षमाप्रार्थी न हों..आप स्त्री विरोधी नहीं है- जान कर खुशी हुई...किन्तु स्त्रियों को शायद दोयम दर्जे का मानते हैं...!

    व्यक्तिगत मान - अपमान से ऊपर उठिए तभी एक अच्छे साहित्यकार की श्रेणी में आप आ पायेंगे ..एक मित्रवत सुझाव है..अन्यथा न लीजियेगा .
    आपसे इस पटल पर यह मेरा पहला और अंतिम संवाद है ...!
    आपको बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  88. आदरणीय श्री सोनी जी,प्रणाम !
    शायद मैं सबसे छोटा हूँ फिर भी छोटा मुह और बड़ी बात कह रहा हूँ... मुझे माफ़ कर दीजियेगा.. प्लीज़ !
    प्यार और अमन की जंग में जिसने दिल हारा वो सब जीता. पर ये लड़ाई या जंग का मैदान नहीं है. ये एक बेहद संवेदनशील साहत्यिक मंच है, प्यार और अमन का. यहाँ आलोचनाएँ हो सकती हैं, मगर सिर्फ रचनाओं की. रचनाकार या किसी टिप्पणीकार की व्यक्तिगत नहीं. इस व्यग्तिगत आलोचना के घने कुहरे को हटाकर हम उस सत्यसम सूरज को रोशन करें जिसकी तलाश और निखरा स्वरुप ही हमारा मकसद है. जौहर साहब से कई बार मेरी बात हुई, उन्होंने कभी भी आपके लिए कोई अवांछनीय या गलत शब्द इस्तेमाल नहीं किया हमेशा यही कहा कि मैं सोनी जी को मना लूँगा, वो मेरे लिए सम्मानीय हैं, उनका दिल दुखाकर मैं खुश कैसे हो सकता हूँ.. श्री जौहर साहब की ऐसी बातें सुनकर मुझसे रहा नहीं गया और आपके समक्ष प्रस्तुत हुवा हूँ.. मेरी इस गुस्ताखी को हो सके तो माफ़ कर दीजियेगा.
    श्री जौहर साहब वाकई एक बेहद उम्दा और सम्मानीय व्यक्तित्व के धनि होने के साथ-साथ बेहद ही उम्दा समीक्षक और उससे भी कही ज्यादा एक बेहद अच्छे इंसान भी हैं. इसका प्रत्यक्ष उदाहरण हमने और कई गुनीजनो ने भी कई बार देखा है. चूँकि ये विवाद आखर कलश पर शुरू हुवा था.. तो हम भी अपने आपको आप दोनों (श्री जौहर साहब और श्री सोनी जी) का गुनाहगार मानते हैं. और ये भी कहना चाहूँगा कि मैं सिर्फ इसी वजह से भी मैं यहाँ कुछ कहने आया कि ये विवाद आखर कलश पर शुरू हुआ. चूँकि मैं भी साहित्य का एक पुराना विद्यार्थी हूँ, इसी नाते कि चर्च सही, सार्थक और सही दिशा में हो, जो कि हमारा मुख्य प्रयोजन है, बस यही चाहता हूँ. इसी सन्दर्भ में जो कुछ मेरे जहन में आया, निवेदन करने आया हूँ. आप कृपया अपना अनुज समझ कर भले ही डांट भी सकते हैं.. पर मेरा निवेदन इतना ही है कि श्री जौहर साहब का आपके प्रति कोई बुरा भाव नहीं है और ना ही और किसी का.
    आपका 'बिगुल' ब्लॉग भी मैंने देखा है. बेहद ही गहरी, समसामयिक, यथार्थवादी तथा बेहद उम्दा लेखनी है आपकी इसीलिये मैंने आपका ब्लॉग फोंलो भी किया ताकि आपका अपडेट मुझे मिलता रहे और मैं पढ़कर अपना ज्ञान बढ़ता रहूँ.
    जौहर साहब ने श्री गुलशन जी और राकेश जी की रचनाओं पर जो टिप्पणियाँ की, वे बेशक अपने आपने सम्पूर्ण और वृहद् अध्ययन और बोद्धिकता का ही एक उदाहारह है. हाँ रचनाएँ बेशक अच्छी थी मगर जो अतिलघु कमियाँ श्री जौहर साहब ने इतना समय देकर इंगित की उनको स्वयं श्री गुलशन जी ने भी कही स्वीकार भी किया, और श्री सोनी जी, आपकी भावनाएं भी कोई गलत नहीं ( जैसा कि आपने साहित्यिक समूह विशेष से जुड़े होने की बात कही) हो सकता है जो आपने कहा कही सच हो.. पर सम्मानीय सोनी जी, सच्चाई सिर्फ उतनी नहीं जितनी हमे नज़र आती है.. उससे आगे भी सच्चाई का वज़ूद है. जिस तरह अँधेरे में टॉर्च की रौशनी से उतना ही दिखा पाती है जहां तक उस टॉर्च की रौशनी जाति है, इसका मतलब ये तो नहीं कि बाकी बाकी अँधेरे में कुछ है ही नहीं. सभी जगह ऐसा नहीं है. आपका सम्मान हमारे दिलों में हैं.. शायद आप देख पायें.. हाँ जो हुवा, गलत हुआ मगर अब जब आप जैसे जिम्मेदार, वरिष्ठ, सम्मानीय, अनुकरणीय व्यक्तित्व जब अब इस चर्चा को विराम नहीं देंगे और इसका स्तर अधोगामी रहा तो हम छोटे फिर क्या सीखेंगे आपसे. हम तो यहाँ सब गुनीजनों से सीखने ही तो आये हैं इस तकनीकी युग में सहजता से उपलब्ध इन सुविधाओं द्वारा. और फिर लघुता और सहजता में ही तो गुरुता छिपी होती है.. !!
    तुम्हारी भी जय-जय हमारी भी जय-जय, ना तुम हारे ना हम हारे, सफ़र साथ जितना था हो ही गया है ना तुम हारे ना हम हारे..!!
    अंत में मेरे प्रिय गज़लकार श्री दुष्यंत कुमार जी के इन दो शेरों के माध्यम से कहना चाहूँगा कि अब बहुत हुवा.

    मूरत सँवारने में बिगड़ती चली गई ,

    पहले से हो गया है जहाँ और भी ख़राब ।

    अब तो इस तालाब का पानी बदल दो

    ये कँवल के फूल कुम्हलाने लगे हैं

    अगर मेरी ये गुस्ताखी लगे, हो सके तो अपने वृहद् व्यक्तित्व का परिचय देते हुवे, अपना अनुज समझ कर मुआफ कर दीजियेगा...!
    मेरा हृदय से नमन !

    ReplyDelete
  89. अज बहुत दिन बाद केवल एक ही ब्लाग पर आयी हूँ। आजकल पंजाब मे बिजली कर्मियों की हडल्ताल के चलेते केवल 2-3 घन्टे बिजली मिल रही है। इस लिये नेट पर देर तक आना सम्भव नही। लेकिन यहाँ शब्द शिल्पीयों को शब्दों के तीर चलाते देख कर मन दिखी हुया है। क्या संवाद का ये तरीका सही है? आप नये ब्लागर्ज़ को क्या दिशा दे रहे हैं? ये संवाद और मन का क्रोध ई मेल के जरिये या फोन पर भी कर सकते हैं। दोनो से कहूँगी इस संवाद को यहीं खत्म करें और अपने मतभेद मेल से निपट लें। एक साहित्यकार समाज को अच्छा सन्देश देता है न कि ब्लागिन्ग के नाम पर एक दूसरे को नीचा दिखाता है। जितेन्द्र आप इतने संवेदनशील हो लेकिन अपनी संवेदनाओं को बेकार की बहस मे मत गंवाओ। तुम से सभी को बहुत उमीदें हैं अपनी ऊर्जा को साहित्य के उत्त्थान मे लगाओ। मै राज कुमार जी को केवल उनकी रचनाओं से जानती होऔँ। अच्छे लेखक हैं तो। लेकिन अच्छे लेखक को अपने क्रोध को काबू मे रखना जरूरी है। दोनो से शान्ति की अपील करते हुये चाहती हूँ कि दोस्ती , प्रेम को बनाये रखें। धन्यवाद और शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  90. निर्मला कपिला जी ने सही शब्दों में बहुत व्यर्थ की बहस को विराम दिया .आभार .बात जीतेन्द्र जौहर की कविताओं से बहुत दूर हट गई मैं वहीँ पर आकर उन्हें सशक्त अभिव्यक्ति के लिए बधाई देता हूँ ---इन्हें केवल कवितायें कहें .धन्यवाद

    ReplyDelete
  91. जितेन्द्र "जौहर" जी
    नमस्कार !
    अनेक कारणों से कई गुणीजन की पोस्ट्स भी नहीं देख पा रहा हूं …
    आपके यहां भी बहुत विलंब से आया हूं …
    शस्वरं पर आपका भी इंतज़ार करता रहा था … … …

    25-30 शब्द की पोस्ट पर हजारों शब्दों के साथ 100 के आस-पास टिप्पणियां देख कर मन मुग्ध हो गया … बधाई !

    लेकिन, मैं अत्यधिक लघु काव्य रचनाओं से तृप्त नहीं हो्ता … आपको जितना जाना है , छंद की गहरी समझ रखने वाले के रूप में ही पाया है ।

    छंद को अच्छी तरह समझने वालों से श्रेष्ठ छांदस रचनाओं की अपेक्षा अनुचित तो नहीं ?

    अगली बार एक ग़ज़ल या गीत की अभिलाषा लिए पुनः आऊंगा । निस्संदेह आप-से गुणी की प्रतीक्षा शस्वरं पर भी रहेगी …

    शुभकामनाओं सहित

    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  92. जौहर साहेब, मैं आपके साथ एक लघु कथा सांझी करना चाहता हूँ. शायद हमारे अन्य साथियों को भी अच्छी लगे.
    बहुत पुरानी बात है कि नदी में एक बिच्छू पानी में बहता जा रहा था. पास से गुजर रहे एक साधु की नज़र जैसे ही उस पर पड़ी, उसे दया आ गई. उसने एक पत्ते की सहायता से उसकी जान बचानी चाही. परन्तु जैसे ही यह पानी से बाहर निकलने को हुआ तो बिच्छू ने साधु को काट लिया. लेकिन साधु ने हिम्मत नहीं हारी और उसने बिच्छू को पानी में डूबने से बचाने के लिए कई प्रयत्न किये. समीप ही खड़े एक सज्जन ने कहा कि जब यह बिच्छू बाहर आते समय बार-बार आपको काटता है तो इसे पानी में ही क्यों नहीं डूबने देते? साधु ने बड़ी शालीनता से उत्तर दिया कि बिच्छू का स्वभाव काटने का है और मेरा काम जग की भलाई करने का है. जब यह अपना स्वभाव नहीं छोड़ता तो मैं अपना स्वभाव कैसे छोड़ दूं?

    ReplyDelete
  93. आद. विद्वज्जन,
    सादर अभिवादन!
    आपका कहा सिर-माथे स्वीकार...कोई भी समझदार इंसान यही तो कहेगा! मगर...एक नज़र उपर्युक्त सभी टिप्पणियों पर दौड़ाकर यह पड़ताल कीजिए कि इस समूचे घटना-क्रम में इस टिप्पणी बॉक्स में किसने क्या-क्या लिखा और क्यों...? उस लिखे हुए में से कितना अंश उचित और कितना अनुचित है...कितना मर्यादित और कितना अमर्यादित है...!

    फिलहाल यहाँ श्री तिवारी जी का एक शे’र उद्धरित कर रहा हूँ, आंशिक संशोधन और अनुकूलन के साथ-

    निभा रहे हैं अपनी दुश्मनी वो कितनी शिद्दत से,
    यही वजह है मुझे अब भी उनपे प्यार आता है!

    मुझे लगता है कि ये सब ब्लॉग बगैरह यहीं धरे रह जाएँगे...ऊपर वाला सब कुछ देख-सुन रहा है...किसी को अगणित गालियाँ, अवांछित उपाधियाँ और धमकियाँ देकर हम क्या हासिल कर सकते हैं...? यह एक विचारणीय प्रश्न हैं!

    ReplyDelete
  94. जौहर साहेब, मैंने आपके ही ब्लॉग पर कुछ पढ़ा था जो अब तक याद है. जीवन की इस भागम-भाग में इतने अच्छे विचार ढूँढने से भी नहीं मिलते. अतः मैं ये दो पंक्तियाँ यहाँ फिर से दोहरा रहा हूँ. यदि तुच्छता अपना समय, चिंतन और ऊर्जा किसी दूसरे की उच्चता का उपहास करने की बजाय अपनी तुच्छता को उच्चता में परिवर्तित करने में लगाती तो कितना अच्छा होता. परन्तु यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि वह सृजनात्मक न हो कर आत्म-विनाशक हो गई है. यदि तुच्छता अपने दृष्टिकोण को बदल कर स्वयं में प्रतिस्पर्द्धात्मक विचारधारा का सृजन कर ले तो वह भी एक दिन दूसरों की ईर्ष्या का पात्र बन सकती है. ईश्वर मुझे भी सद्बुद्धि दे ताकि मैं अपने जीवन में सन्मार्ग पर अग्रसर हो सकूँ.

    ReplyDelete
  95. व्यासजी,
    सिलसिलेवार जवाब देकर आपकी बात पर आता हूं।
    सबसे पहले महारानी लक्ष्मीबाईजी को नमस्कार कर लूं
    नमस्ते महारानीजी.
    आशा है आपके राज में प्रजा सुखी होगी।

    ReplyDelete
  96. देवीजी,
    आपने पहले और अंतिम संवाद की बात कही है। आपकी इस घोषणा का मैं स्वागत करता हूं। मैं पहले भी कह चुका हूं.. फिर कह रहा हूं। अपनी लड़ाई में बच्चों और महिलाओं को वे लोग शामिल कर लेते हैं जो कायर होते हैं।
    आपने मेरे द्वारा किए जा रहे संवाद से अपने आपको अलग कर लिया इसके लिए मैं आपका आभारी हूं।

    ReplyDelete
  97. देवीजी,
    आपने मुझे बेहतर साहित्यकार बनने की सलाह दी है।
    साहित्यकार तो मैं कभी बनना ही नहीं चाहता। झूठ बोलते हुए कविता लिखने से क्या फायदा। आत्ममुग्ध होकर फांसी लगाने पर मेरा यकीन नहीं है। और सच तो यह है देवीजी कि इस देश का साहित्यकार बड़ा ही मामू है। वह बड़े से बड़े मुद्दे पर अपनी चुप्पी ओढ़े रखता है। कई बार तो यह लगता है कि साहित्यकार मां और बहन से भी बड़ी गाली का नाम है। मैं गाली खाने का आदी नहीं हूं।

    ReplyDelete
  98. देवीजी आशा है अब हम कभी बात नहीं करेंगे। आपकी कृपा बनी रहेगी तो मेरे वचन की रक्षा होती रहेगी।

    ReplyDelete
  99. निर्मलाजी,
    आप हम सबसे बड़ी है। आपकी शांति की अपील पर मैं लगातार विचार कर रहा हूं लेकिन मै एक मजदूर का बेटा हूं... हो सकता है कि संघर्ष से पीछे हटने की मेरी आदत कभी बनाई ही नहीं गई हो। फिर भी आपकी अपील के लिए धन्यवाद।

    ReplyDelete
  100. यादवजी और स्वर्णकारजी
    हालात के मद्देनजर आपकी टिप्पणियां काबिले-तारीफ है।
    आप दोनों को मेरी शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  101. अब हे भाषा के महान वैज्ञानिक, साधु
    भाई सहाब आखिर कब तक लोगों को पंचतत्र की कहानियां सुनाते रहोगे।
    आपके साथ सबसे बड़ी दिक्कत यह है कि आप यह स्वयं तय कर लेते हैं कि आपको क्या बनना है। कभी आप बच्चन बन जाते हैं कभी अपने आपको साधु बताने लगते हैं।
    सब जानते हैं कि जब अटलजी प्रधानमंत्री थे तब साधुओं का शिष्टमंडल क्या-क्या गुल खिलाता रहा है। अभी दो रोज पहले ही कुछ साधु एक विवाहित से रेप करने के मामले में गिरफ्तार किए गए हैं।
    तो हे... साधु बाबा... साधुगिरी साधुबाजी आपको ही मुबारक हो। आपको लगता है कि मैं राजकुमार सोनी बिच्छू हूं... तो भइया बलात्कारी साधु बनने से बेहतर है बिच्छू बने रहना।
    बम-बम भोले बोल, दिमाग का ढक्कन खोल... बोलो साधु महाराज की... जोर से बोलो से भाइयों..........
    जय........

    ReplyDelete
  102. और हां... स्टेपनी श्रीमानजी
    एक बार अपनी टिप्पणी में यह तो बता दो प्रोफेसर प्यारेलाल..
    बीच में टपकना कब बंद करोगे। इसके लिए आपको मानदेय मिलता है क्या।

    ReplyDelete
  103. जौहर साहब,
    आपको क्या लगता है कि मेरी आपसे कोई दुश्मनी है। नहीं है भाई...
    आप अपने समर्थन में जो-जो कर सकते हैं वह आप कर रहे हैं। मैं तो आपसे और आपके साथियों से अकेला ही बात कर रहा हूं।
    जिस दिन आप कह देंगे कि सोनीजी अब और टिप्पणी मैं अपने ब्लाग पर नहीं चाहता उस दिन के बाद से मैं आपको टिप्पणी देना बंद कर दूंगा। हां... लेकिन इस बात का आपको ख्याल रखना होगा कि मेरी टिप्पणी बंद हो जाने के बाद आप फिर से ज्ञानचंदी नहीं दिखाएंगे।
    मेरा आप पर सीधा आरोप है कि आप जरूरत से ज्यादा ज्ञानचंदी की बघार लगाते हैं।
    यदि आपको लगता है कि यह बहस कभी समाप्त नहीं हो सकती तो इसे चलने दीजिए... मुझे कोई आपत्ति नहीं है।

    ReplyDelete
  104. व्यासजी,
    आप भले आदमी है जो बीच-बचाव की कोशिशों में लगे हुए हैं। लेकिन मुझे लगता है कि सब यही चाहते हैं कि अकेला मैं ही खामोश हो जाऊं। देखिए आपकी टिप्पणी के बाद कितने लोगों ने टिप्पणी कर दी है। खुद जौहर साहब भी ज्ञानचंदी बघारने से बाज नहीं आए। और भाषा वैज्ञानिक तो अपने आपको साधु और मुझे शैतान निरूपित करने में ही जुटा हुआ है।
    यह सही है कि विवाद आपके ब्लाग पर शुरू हुआ था... जवाब भी मैं आपके ही ब्लाग पर दे रहा था लेकिन आपने मेरी टिप्पणियों का प्रकाशन बंद कर दिया सो मुझे समीक्षक महोदय के ब्लाग पर आना पड़ा। जौहर साहब की एक बात की दाद देता हूं और वह यह है कि उन्होंने टिप्पणियों के दरवाजे पर ताला नहीं लगाया। कोई और होता तो घबरा जाता। इस मामले में मैं उन्हें बधाई देता हूं। उनका यकीन बातचीत को लेकर कायम है। इस देश की सबसे बड़ी दिक्कत यह है कि कोई बातचीत करना ही नहीं चाहता। जौहर साहब का यकीन लोकतंत्र पर कायम है।
    व्यासजी,
    आपने विवाद को समाप्त करने की पहल की है.. मैं इसका स्वागत करता हूं। मैं आपको एक निवेदन के साथ यकीन दिलाता हूं.. निवेदन यह कि मैं इस मुद्दे पर अपनी आखिरी टिप्पणी करने जा रहा हूं लेकिन मेरी इस टिप्पणी के बाद किसी ने टिप्पणी की तो उसे जवाब के लिए तैयार रहना होगा। यदि किसी को असहमति है तो वह मेरे मेल का उपयोग कर सकता है।
    आपकी तरह मेरा यकीन भी मोहब्बत पर है। मोहब्बत जिन्दाबाद।

    ReplyDelete
  105. मैं एतद् द्वारा घोषणा करता हूँ कि आपके ब्लॉग पर दर्ज मेरी सभी टिप्पणियाँ केवल जौहर साहेब और मेरे मित्रों
    से ही सम्बंधित हैं. इनका प्रत्यक्ष अथवा परोक्ष रूप से किसी अन्य व्यक्ति से कुछ लेना-देना नहीं है. यदि कोई भी व्यक्ति इन विचारों को अपने से जोड़ता है तो इसकी समस्त जिम्मेवारी उसी की होगी. मैंने यह टिप्पणी इसलिए दी है कि किसी भी सज्जन को इस विषय में किसी भी प्रकार की भ्रान्ति न रहे. धन्यवाद.

    ReplyDelete
  106. जीतेंद्र जी

    नमस्कार

    दोनों सूक्ष्मिकाएं पढीं .... आज कल कविता में शब्दों का बहुत अपव्यय होता है ..जिस बात को हम एक पंक्ति में कह सकते हैं उसे कहने के लिए बहुत सी पंक्तियाँ लिखी जाती हैं... आप शब्दों का महत्व समझते हैं ..पहली क्षणिका अगर एक लंबी कविता होती तो मैंने उसका सम्मान न कर पाता... पर आपकी सूक्ष्म दृष्टि उसे सम्मान के लायक बना दिया है ... कविता की संरचना पर अच्छी पकड़ है आपकी ... दूसरी कविता को आपने एक प्रक्रिया के तौर पर दर्शाया है ..जो कि वास्तव में है भी ..और समाज में प्रचलित भी है...

    सादर .....

    ReplyDelete
  107. बहुत कम शब्दों के प्रयोग से
    बहुत बड़ी बात कह देने का जौहर
    आपकी काव्य कुशलता को रेखाँकित करता है..
    और
    इस रचना में छिपा सन्देश
    घर - घर पहुंचे
    यही कामना है .

    अभिवादन स्वीकारें

    ReplyDelete
  108. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  109. @ Thakur M.Islam Vinay,
    खेद का विषय है कि आपने हमारे ब्लॉग के इस टिप्पणी बॉक्स को अपने व्यक्तिगत प्रचार का माध्यम बनाया...! वाह...मेरे भाई...वाह... आप एक झटके में आये और अपनी ‘रेडीमेड’ विज्ञापनीय कॉपी यहाँ पेस्ट और पोस्ट करके खिसक गये... हाऽऽऽ...हाऽऽऽ!

    मुझे रहीमदास जी का एक दोहा याद आ गया- "रहिमन जा जगत्‌ में भाँति-भाँति के लोग..."

    आपके आगमन से निजी स्वार्थ की गंध आ रही है। काश! आपने क्षणिकाएँ पढ़कर कुछ सार की बात भी की होती...! या फिर आपका विज्ञापन कोई गम्भीर साहित्यिक विषय से जुड़ा होता, तो कोई बुरी बात भी न थी!

    ReplyDelete
  110. कम शब्दों में प्रभावशाली प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  111. आपकी ये सूक्ष्मिकाएं शब्दों की कमखर्ची के बावजूद उत्तम दर्जे की प्रस्तुति लगी । बधाई व आभार...
    आप मेरे ब्लाग नजरिया पर पधारे. अच्छा लगा.
    कृपया भविष्य में भी आते रहें. यद्यपि मुझे शब्दों को सम्हालकर खर्च करने की मितव्ययिता शायद आती नहीं है. धन्यवाद...

    ReplyDelete
  112. जौहर साहेब, आपकी सूक्ष्मिकाएं तथा उन की मारक क्षमता पर हो रही दीर्घ टिप्पणियों को देखने के बाद मुझे एक दोहा याद आ गया है. हालांकि कुछ लोगों को इन्हें देख कर घृणा भी हो सकती है परन्तु आज के सन्दर्भ में ये सर्वाधिक सामयिक प्रतीत होती हैं. दोहों में भी शब्दों का न्यूनतम उपयोग होता है. शब्द अपव्ययिता के इस दौर में ऐसे लोगों के लिए ही यह दोहा देखिये कम शब्दों में कितनी बड़ी बात कह रहा है!
    करि फ़ुलेल के आचमन मीठो कहत सराहि।
    रे गंधी मति अंध तू इतर दिखावत काहि ॥

    ReplyDelete
  113. बहुत सार्थक और अच्छी सोच .....बधाई

    ReplyDelete
  114. आपका वीणा के सुर पर आने का बहुत-बहुत शुक्रिया और यहां तक लाने का भी वर्ना इतनी सुंदर और परिपक्व व कम शब्दों की गहरी रचना कैसे पढ़ पाती। आपका ब्लॉग भी फॉलो कर लिया है...
    आप इसी तरह उत्साह बढ़ाते रहिएगा.....

    ReplyDelete
  115. @ सुरेश यादव जी
    @ नवीन चतुर्वेदी जी
    @ राना जी
    @ मनोज मिश्रा जी
    @ वीना श्रीवास्तव जी
    ‘जौहरवाणी’ के ‘साथी-संगम’ में आप सभी की उपस्थिति मुझे बेहतर लिखने की प्रेरणा देती रहेगी... सहृदयता व सद्‌भावना के लिए ‘आभार’ शब्द छोटा जान पड़ता है...तथापि कृपया इसे स्वीकार कीजिए!

    ReplyDelete
  116. बहुत खूबसूरती से लिखा है.

    ReplyDelete
  117. bahut hi acha likha hai aapne...

    mere blog par bhi kabhi aaiye waqt nikal kar..
    Lyrics Mantra

    ReplyDelete
  118. कम शब्दों में प्रभावी बात। सुन्दर रचना!

    ReplyDelete
  119. Bhaoot khoob!!!
    Thanks for visiting my blog and for the good wishes.

    ReplyDelete
  120. नमस्कार जी
    बहोत सुंदर लिखा हैं आप ने

    ReplyDelete
  121. Jitendra ji
    Kam shabdon mein vichaar bunna ek aadhi jung jeetne ke barabar hai..
    Jo Bimb aapne daulat aur nashe ka kheencha hai, vah kabile tareef hai.
    daad ke saath

    ReplyDelete
  122. Merry Christmas
    hope this christmas will bring happiness for you and your family.
    Lyrics Mantra

    ReplyDelete
  123. @ प्रेरणा जी
    @ आलोकिता जी
    @ स्मार्ट इंडियन जी
    @ देवी नागरानी जी
    @ मर्मज्ञ जी
    ‘जौहरवाणी’ के ‘साथी-संगम’ में भी अपनी प्रेरक उपस्थिति दर्ज करने के लिए आप सभी विद्वज्जनों का हार्दिक आभार!
    ......................................

    @ देवी नागरानी जी एवं मर्मज्ञ जी,
    मैंने आपको देश-विदेश की तमाम पत्रिकाओं में पढ़ा है और आपके साथ छपता भी रहा हूँ। अब आपको ब्लॉगिंग में देखकर सुखद अनुभूति हो रही है!

    देश की एक प्रतिष्ठित पत्रिका ने ‘ब्लॉग भ्रमण’ शीर्षक से एक नियमित स्तम्भ लिखने का प्रस्ताव रखा है। यदि मैं उक्त स्तम्भ के लिए समय निकाल सका, तो आपकी उत्कृष्ट ब्लॉगीय सक्रियताओं का नोटिस लूँगा ही।

    ReplyDelete
  124. dekhan me chhoti lage ghav kare gambhir ,ati sundar dono hi ,nav barsh ki bahut bahut badhai .

    ReplyDelete
  125. सुन्दर क्षणिकाएं--बधाए ...पर ये बकवास क्या व क्यों प्रारम्भ होगई यहां बज़ाय साहित्यिक समालोचना / प्र्शंसा के...

    ReplyDelete
  126. जितेन्द्र जी, आप मेरे ब्लौग पे अचानक से जो "लैंड" किये वो कितना सुखद था मेरे लिये...अभिनव प्रयास ने जो मेरी ग़ज़लों को पहचान दी उसे कभी न भूला पाऊँगा!

    यहाँ आया, तो अलग ही महाभारत मचा हुआ है...हे ईश्वर! नव वर्ष की समस्त शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  127. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  128. मकर संक्राति ,तिल संक्रांत ,ओणम,घुगुतिया , बिहू ,लोहड़ी ,पोंगल एवं पतंग पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं........

    ReplyDelete
  129. आज पहली बार आपके ब्लॉग पर आया हूँ बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति ,अच्छी रचना , बधाई ......
    कभी समय मिले तो हुमारे ब्लॉग //shiva12877.blogspot.com पर भी एक नज़र डालें .

    ReplyDelete
  130. Bahut khoob...
    chhoti si kashida me aapne bahut kuchh kah diya.

    ReplyDelete